देखते ही देखते ये क्या हुआ


मैं गुडगाँव गुरुग्राम में हूँ और अभी जब नल चलाया तो 3 बूँद टपकने के बाद पानी चला गया। मैंने फटाफट अपने बाथरूम में बाल्टी नीचे लगा कर नल चलाया तो उसकी तली गीली करने के बाद वो नल भी खाली हो गया।

सपनों की कीमत


कुछ दिन पहले मैं शहर के मुख्य चौराहे पर खड़ा था। चौराहे के एक ओर किताबों की बहुत सारी दुकानें हैं।

अनोखी फरमाइश


तेज़ बारिश की बूंदे सड़क पर तड तड करके गिर रही हैं। बारिश की बूंदों और तेज़ हवा के अलावा सड़क पूरी तरह खामोश है।